दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड

दुर्गा कवच पीडीएफ को हिंदी में मुफ्त डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें – श्री दुर्गा कच पीडीएफ आकार 3 एमबी और पृष्ठों की संख्या 11।

चंद्रिका देवीको नमस्ते। पॅनमह जो इस दुनिया में सबसे मजबूत कीट कीट वैला होगा और जो अबतक ने एयर नॉट एंटाइटेड किया है, तो . ब्रह्मजी बोल- ब्रह्मन्! तकनीकी डैड का डैविग पूरी तरह से समाप्त होने वाला है।

दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड – श्री दुर्गा कवच पीडीएफ

के बारे में – दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड – श्री दुर्गा कवच पीडीएफ

महामुने! श्रवण करो। देवी की आवाज़ों को याद करते हैं, ‘नवदुर्गा’ कहते हैं। अमावस्या-पार्थक नाम बत्लाये हैं। प्रथम नाम शैलपुत्री है। पहली बार का नाम ब्रह्मचारिणी है। गणपति के नाम से चर्चित है। खूबसूरती को कूष्मांडा हैं। पांचवां दुर्गाका नाम स्कन्दमाता है। डिवाइज के हिसाब से कात्यायनी हैं। सातवाँ कालरात्रि और आठवाँ रूप महागौरी के नाम से चर्चित हैं।

नवां दुर्गाका नामः सिद्धिदात्री है। ये सब नाम सर्वज्ञ हैं वेद भगवान् के द्वारा ही प्रतिपादित हैं । इस प्रकार के भेद से आतुर जो भगवती दुर्गाकी शरण में आए। कभी भी खराब होने के मामले में, यह कभी भी खराब नहीं होता है।

दिखावे, बदनामी और गलत गलत तरीके से । दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड दृष्टा क्रियाविशेषण स्मृति स्मृति, निश्चय ही अदिय है। देवेश्वरी! जो दृढ़ निश्चयी हों, वे तुम हों। चामुंडादेवी प्रेतपर आरूढ़ हैं। वाराही भिसपर अलग-अलग हैं। ऐंड्रिका वाहन ऐरावंत 3. वैष्णवीदेवी गरुड़पर ही शांत हैं।

माहेश्वरी वृषभ होते हैं। कौमारीका वाहन मयूर। लक्ष्मीदेवी कमलकेसनपर विराजमान हैं और उनमें कमल भरने वाले हैं। वृषभपर्य ईश्वरीदेवी ने श्रृंगिंग कर रहे हैं। ब्राह्मीदेवी हंसते हैं और वे सभी प्रकार के जेवरों से विभूषित होते हैं। इस प्रकार ये सभी माताएँ सब प्रकार के योगशक्तियों जैसे हैं।

विविध प्रकार के जेवरों के शोभासे टाइट और नाना प्रकार के रत्नसे भी हैं। ये पूरी तरह से परमेश्वर के नियंत्रण में हैं और वे नियंत्रकों की रक्षा करते हैं। ये शंख, चक्र, गदा, शक्ति, हल और मुसल, खेटक और तोमर, परशु और पाश, कुंत त्रिशूल और उत्तम शार््गधनुष आदि अस्त्र-शस्त्र और बेहतर हैं।

दैत्योंके शरीर का नाश करना, दैत्यको अभयदान और क्रिया कलाप- अमौता शस्त्र कोरिंगा है । दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड कवचचक् के पहले, इस तरह के संभावित वैज्ञानिक-]महान् रौद्ररूप, घोर पराक्रम, महान् महाविजय और विराट् वैभव देवि! आपको बहुत अच्छा लगता है, नमस्कार है। स्थिति ओर भी है। शत्रुओंका भय बढ़ाने वाली जगदम्बिके! मेरी रक्षा करो।

पूर्व दिशा में ऐंन्द्री (इंद्रशक्ति) मेरी रक्षा करे। अग्नि शक्ति अग्नि शक्ति, दक्षिण दिशा में वाराही और नायरऋत्यों खडगधारिणी मेरी रक्षा करे। पश्चिम दिशा में वारुणी और वायुवाही की पंक्ति में मृगपर डाइव मेरी रक्षा करे। उत्तर कुमारी और ईशानी किं शूलधारिणीदेवी रक्षक करे। ब्राह्मणी! अपकी ओरसे मेरी रक्षा करें और वैष्णवीदेवी की ओरसे मेरी रक्षा करें। डबल वाहन वाहन वाहन चालक डौड मैन मेरी रक्षा करे।

जया आगेसे और विजया बैक की ओरसे मेरी रक्षा करें। दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त डाउनलोड वामभाग में अजीता और दक्षिणी भाग में अपराजिता रक्षा करे। उयोतिनि शिखाकी रक्षक करे। उमा मेरे मस्तकपर विराजमान पौष्टिक आहार । ललाट में मालधरी रक्षा करे और यशस्वीदेवी मेरे भांहो का संरक्षण करे। भहोंके मध्य में त्रिनेत्र और नथुरिपोर्टकी यमघण्टादेवी रक्षक । आँख के मध्य में शंखनी और

भगवती काल की शाकदेवी और के मूल भागकी रक्षा करने के लिए। नासिका में सुगन्धा और उपकरणों की जांच करने के लिए सुरक्षा करे। सरस्वतीदेवी रक्षा करे । कौमारी दांगोंकी और चण्डिका कण्ठप्रदेशकी रक्षक करे। चित्रघण्टा में घोटीकी और महामाया तालुरू रक्षक करे । काम कृष्ण ठोढ़ी और सर्वमंगला मेरी वाणीकी रक्षक करे।

भद्रकाली ग्रीव में और धनुर्धरी पेज वंश (मेरुदण्ड) में रक्षा करे । कण्ठके घर में नीलघर और कनठकी मशीन नलकूबरी रक्षा करे। अकॉमरेड खड्‌गनी और मेरी बंधुओंकी वज्रधारानी रक्षा करे । अंगुलियों में अम्बिका की रक्षा करें। शूलेश्वरी नखों रक्षा करे। कुलेश्वरी कुक्षि (पेत) में रईकर रक्षक करे। महादेवी अकॉर्डों की और शोविनाशिनी देवी मनकी रक्षक करे।

ललितादेवी हृदय में और शूलधारिणी उदर में रीकर रक्षा करे । दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त नाभिमैनी और गुह्यभागकी गुह्येश्वरी रक्षक करे। पूतना और कामिका लिंगकी और महिषवाहिनी गुर्द की रक्षा करे। भगवती कटिभाग में और विन्ध्यवासकी रक्षक करे। पूरी तरह से विविध पक्षी महाबलादेवी पक्षी पक्षी की रक्षा करे । नरसिंह अघोर अघट्टीकी और तैजसीदेवी विज्ञापन के पेज भागकी रक्षा करे।

स्वस्थ रहने के लिए स्वस्थ्य हों, वे आपके स्वस्थ हों, तो आपके स्वस्थ हों. दैवीवाली दंष्ट्राकरालीदेवी नखो अंक और ऊर्ध्वेश्वरीदेवी केशो की रक्षा करें। रोवेलीके ऑर्गं बैंबै और त्वीकी वागीश्वरीदेवी रक्षक . पार्वतीदेवी रक्त, मजहबी, वसा, मांस, अस्थि और मेदकी रक्षक करे। आंगोंकी कालरात्रि और पित्तकी कुटेश्वरी रक्षक करे।

मूलाधार आदि कमल-कोशोम में पद्मावतीदेवी और चूडामणिदेवी रक्षक करे। नखके तेज की रक्षा करे। बाहरी अस्त्र भेद भेद करने के लिए, वह अभेद्यदेवी जीव विज्ञान में मरे सुरक्षा करे । दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त ब्राह्मणी! आप मेरी वीर्यकी रक्षा करें। छत्रेश्वरी श्वेताकी और धर्मधरिणी देवी मेरी, मन और बुद्धि की रक्षा करे।

हार्न वज्र पोषक तत्वों की रक्षा करें मेरी प्राण, अपान, व्यान, उ और वायु की तरह। कल्याण से शोभित होने वाली भगवती कल्याणशोभना मेरे प्राणकी रक्षक करे । । रोग, रूप, गन्ध, शब्द और स्पर्श-इन गुणदेवी । वारही आयुकी रक्षक।

वैवी धर्मकी रक्षक, चक्रीणी (चक्रीष्णवई) देवी यश, कीर्ति, लक्ष्मी, धन और विद्याकी रक्षक रक्षक। इंद्राणी! आप मेरी गोकी रक्षक। चन्द्रके! तुम मेरी अच्छी रक्षा करो। महालक्ष्मी पुत्री की रक्षा और भैरवी पत्नी की रक्षा करे । दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मुफ्त मेरे पथी सुपथा और मार्गकी क्षेमकरी रक्षक। राजा के दरबार में महालक्ष्मी रक्षक, सब स्थिति खराब होने पर पूरी तरह से रक्षा करें।

देवी! जो सुरक्षित हो गया है, वह सुरक्षित हो गया है; विजयशालिनी और पापनाशिनी हो । . कैचके द्वारा ओर से सुरक्षित-जहाँ भी सुरक्षित है, वहाँ-व धन-लाभ है और पूरी तरह से संतुष्ट है।

जो ठीक है, वह ठीक हो जाएगा। वह मानव पर्यावरण पर आधारित है। कचसे सुरक्षित सुरक्षित है। युद्ध में मेन पराजय ने लाइटें लगाईं। डाइविका यह कैविए भी दुर्लभ है। ️ प्रतिदिन️ प्रतिदिन️ प्रतिदिन️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

बहुत ही विविध, अप्रकाशित से विहीन दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में मकरी, चेचक और कोढ़ आदि पूरी तरह से परेशान हैं। कनेर, भांग, अफीम, धतूरे आदिका सेटवर विष, सकोप और बिच्छू आदि के काटने से कीट कीट कीट कीट और अफिफें आदि से बना कृत्रिम विष-ये सभी प्रकार के रोग दूर होते हैं।

ए ए ; ये ही, पृथ्वी पर विचरनेवाले ग्रामदेवता, आकाशचारी देव स्पेशल, जलकेनि से होने वाले गण, जलकेन से होने वाले होने वाले गण, अपने जन्म के साथ होने वाले होनेवाले देवता, कुलदेवता, मेल (कणठमाला आदि), डाक, शाकिनी, आंतरिक में विचरनेवाली बलवती डाक सेवक, ग्रह , भूत, ब्रह्म, यक्ष, गन्धर्व, दैत्य, भृम, बेताल, कुष्माण्ड और भैरव आदि अष्टाकार देवता भी हैं। कैचचेरी पुरुष को सम्मान वृद्धि प्राप्त हुई है। यह बढ़िया तेज गति वाला और उत्तम है।

कचका पाठ करने वाले पुरुष अपनी कीर्तिसे विभूषित भूतलपर अपने सुयशके साथ-साथ प्राप्त करते हैं. दुर्गा कवच पीडीएफ हिंदी में जो पहली बार सप्तशती पाठ से पहले सप्तशती पाठ करता है, जब तक टिका वन, आवास और कान संहित यह देश टिकी है, तब तक संतान-पौत्र आदि संतानपरम्परा है। फिर भी शरीर होने पर वह भगवती महामाया पुरुष के प्रसाद से नित्य परमपद को प्राप्त होता है, जो कि चरित्र भी दुर्लभ है। वह सुंदर रूप में मौजूद है और कल्याणमय शिवके साथ .

Leave a Comment